Category: Responses

(पार्ट ३) जिग्नेश मेवानी ने ग़लत क्या बोला?

(पार्ट ३) जिग्नेश मेवानी ने ग़लत क्या बोला?

जिग्नेश मेवानी ने ग़लत क्या बोला? पिछले दो आर्टिकल लिखने के बाद भी लोगों में लोगों को गुमराह करने की कोशिश जारी हे इस लिए तीसरा आर्टिकल लिखने जा रहा हूँ… यहाँ पर एक बात गौर करने की हे, जब शुरु में पहला आर्टिकल लिखा गया था तो सब ने ये ही अफवाह फेलाई के…

Read More Read More

share
(पार्ट २ ) जिग्नेश मेवानी की मुस्लिम संस्थाओं को धमकी

(पार्ट २ ) जिग्नेश मेवानी की मुस्लिम संस्थाओं को धमकी

“और दूसरी बात के आज जो भी संस्थाओं ने उस वक़्त (२००२ में) हमारे लिए रहनुमा होने के नाते मकान बनाये और जिसको हम टेम्पररी बहुत महत्त्व का योगदान हम समझते हैं. यही सब संस्था डेल्ही और पूरे देश में अनेक कार्यक्रम में मुझे वक्ता के रूप में बुलाती हैं. में उन्हें कह दूंगा जब तक…

Read More Read More

share
जिग्नेश मेवानी की मुस्लिम संस्थाओं को “धमकी”

जिग्नेश मेवानी की मुस्लिम संस्थाओं को “धमकी”

कम्युनिस्ट लॉबी के करीब के लोगों ने बताया के @jigneshmevani80 ने जमाते इस्लामी, जमीयत उलेमा जैसी 2002 फसाद में रिफाहि काम करने वाली मुस्लिम संस्थाओं को पिछले दिनों अहमदाबाद में २००२ दंगे की बरसी पर हुवे एक प्रोग्राम में धमकी दी है के अगर उनकी शर्त नही मानी गयी तो वो इन के प्रोग्राम में…

Read More Read More

share
मुद्दा: बाबरी मस्जिद ETV गुजराती डिबेट

मुद्दा: बाबरी मस्जिद ETV गुजराती डिबेट

अचानक से पर्सनल लॉ बोर्ड की मीटिंग से पहले मौलाना सलमान नदवी श्री श्री रविशंकर से मुलाक़ात कर लेते हैं. और प्रेस कांफ्रेंस कर के बताते हैं के मुसलमानों को बाबरी मस्जिद की ज़मीन हिन्दुओं के लिए छोड़ देनी चाहिए, और मस्जिद की जगह दुरी पर कहीं और ले लेनी चाहिए. इस मुद्दे को भारतीय…

Read More Read More

share
मौलाना सलमान नदवी की ‘सुलह अयोध्या’ की 3 शर्तों का जाएज़ा

मौलाना सलमान नदवी की ‘सुलह अयोध्या’ की 3 शर्तों का जाएज़ा

पिछले दिनों सलमान नदवी साहब ने भारत के मुसलमानों के ‘स्वयंभू नेता’ बनने का ऐलान करते हुए सालों पुराने बाबरी मस्जिद के मसले पर एक मुआहेदे की पेशकश कर डाली है, जिस पेशकश को सोशल मीडिया में ‘सुलह अयोध्या’ कहा जा रहा है! ▪सलमान नदवी साहब का जल्दबाज़ी में फ़ैसला ले कर अपने पैर पर…

Read More Read More

share
सलमान नदवी साहेब को खुला खत

सलमान नदवी साहेब को खुला खत

मोहतरम जनाब सलमान नदवी साहब, अस्सलामुअलैकुम आप से ज़ाती तौर पर कभी मुलाक़ात नहीं हुई, लेकिन आप के मदरसे के बहुत से फ़ारेगीन मेरे दोस्त हैं. उन लोगों के ज़रिए आपका तार्रुफ़ हुआ था और आप की विडियोज़ को भी देखा है. माशाल्लाह, अल्लाह ने आप को बहुत बड़ी सलाहियतों से नवाज़ा है और आप…

Read More Read More

share