नाहिद आफरीन पर “फतवा” – Sandesh NEWS डिबेट

नाहिद आफरीन पर “फतवा” – Sandesh NEWS डिबेट

भारतीय मीडिया के लिए मुसलमानों के खिलाफ ज़हर उगलना एक आम बात हो चुकी हे. और मुस्लिम उलेमा के खिलाफ झूट ही फेलाया जाता हे.

ऐसा ही कुछ नाहिद आफरीन पर “फतवा” में हुवा. असाम के एक इलाके में मस्जिद के करीब देर रात तक एक म्यूजिक पार्टी होने को थी, जो के नमाजियों को भी तकलीफ देती और मस्जिद की बेहुरमती का भी मसला था. इसलिए वहां के कुछ जागृत मुसलमानों ने एक अपील की के ऐसी जगह मुसलमानों को नहीं जाना चाहिए. और वैसे भी ऐसी म्यूजिक पार्टीज इस्लाम में हराम हे.

फिर क्या था, हमेंशा की तरह मुसलमानों के खिलाफ नफरत फेलाने में हमेंशा तैयार रहने वाली भारतीय मीडिया इस मसले को बेजा हवा देने लगा. और रातो रात गायक नाहिद जिसको कोई जानता भी नहीं था, उसको मशहूर कर दिया, और मीडिया में ये बताने की कोशिश की गयी के इस्लाम औरतों की आजादी पर रोक लगा रहा हे. मीडिया में उलेमा के खिलाफ नफरत के बिज बोये जा रहे थे. हर न्यूज़ चैनल पर यही विषय पर डिबेट हो रही थी.

इस विषय पर मोईनुद्दीन इब्न नसरुल्लाह को भी गुजराती न्यूज़ चैनल संदेश द्वारा आमंत्रित किया गया. जहाँ इस्लाम का मौकूफ और उलेमा का दिफ़ा और मीडिया के झूट को बेनकाब किया गया.

जानकारी के लिए बताएं के ये शो हमेंशा ३० मिनट्स का ही हुवा करता था, लेकिन संदेश चैनल वालों को महसूस हुवा के जिस मकसद (मुसलमानों के खिलाफ नफरत) के तेहत ये डिबेट करा रहे थें वो पूरा होता नज़र नहीं आ रहा हे, इसलिए डिबेट के समय को १ घंटे कर दिया गया. बिच में चैनल के हेड भी डिबेट में जोड़ दिए गए, क्यों की इस्लाम की तरफ से एक मज़बूत मौकूफ Moinuddin Ibn Nasrullah तरफ से जा रहा था जिसका जवाब या काउंटर एंकर और दुसरे लोग नहीं कर पा रहे थे.

Watch Debate:

share